कार के टायरों पर लिखे नंबरों का क्या होता है मतलब? जानिए टायर बदलने का सही समय

121
What do the numbers written on car tires mean? Know when is the right time to change tyres.

Know Right Time to Change Tyres, How to Read Car Tire Size Details in Hindi : अक्सर हमने देखा है कि हमारी कार के टायरों पर कुछ नंबर लिखे होते हैं। उदाहरण के लिए, एक टायर पर लिखा नंबर 195/55 R16 87 V है। इन नंबरों का क्या मतलब है? आमतौर पर आप देखेंगे कि कार के टायर बदलते समय दुकानदार इसी नंबर को देखकर नए टायर लगाता है। इसके अलावा हमारे मन में यह सवाल भी रहता है कि टायर बदलने का सही समय क्या है। हमें अपनी कार के टायर कब बदलने चाहिए? आइए इस खबर में इन सवालों के जवाब ढूंढते हैं।

टायर नंबर उसकी चौड़ाई और भार क्षमता को दर्शाता है 

दिल्ली के एसपी मुखर्जी मार्ग स्थित टायर मार्केट के दुकानदार साहिब सिंह कालरा के मुताबिक, मान लीजिए किसी टायर का नंबर 195/55 R16 87 V है. तो पहला नंबर 195 टायर की चौड़ाई है. यह चौड़ाई मिलीमीटर में मापी जाती है. उदाहरण के लिए, उपरोक्त संख्या वाले टायर की चौड़ाई 195 मिमी होगी। इसके आगे दिया गया नंबर 55 टायर का पहलू अनुपात है, यानी टायर की ऊंचाई। तब R का मतलब है कि टायर रेडियल है।

साहिब सिंह का कहना है कि अगर किसी टायर पर D लिखा है तो समझ लें कि यह तिरछा टायर है। टायर नंबर के आगे लिखा नंबर 16 उसका रिम व्यास है। इसके बाद 87 का मतलब है कि यह टायर कितना वजन उठा सकता है। अंत में लिखे V का मतलब है कि यह टायर अधिकतम 240 किमी प्रति घंटे की रफ्तार देने में सक्षम है। यदि अंत में N है, तो इसका मतलब है कि यह 140 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति देने में सक्षम है।

टायर पर लिखे नंबरों का क्या मतलब  

टायर की उम्र 50000 किमी

टायर का जीवनकाल आपके ड्राइविंग कौशल पर निर्भर करता है। कई लोग रैश ड्राइविंग करते हैं. बार-बार ब्रेक लगाने से टायरों पर दबाव पड़ता है और वे जल्दी खराब हो जाते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कार के 40 से 50 हजार किलोमीटर चलने के बाद या तीन से पांच साल के भीतर टायर बदल देना चाहिए। इसके अलावा अगर टायर बार-बार पंक्चर हो रहे हैं तो उन्हें बदलवा लेना ही बेहतर है। जानकारी के मुताबिक, कभी-कभी गाड़ी धीरे चलाने और गाड़ी खड़ी करने पर भी टायरों में दरारें आ जाती हैं।

टायर कब बदलना चाहिए यह देखने के लिए नीचे दिए गए वीडियो पर क्लिक करें।

https://youtu.be/eZX3b8fWr0c?si=ghMyMbJdVTqDLA2V

कार का व्हील एलाइनमेंट

जैसे-जैसे कार के टायर पुराने होते जाते हैं, घिसते जाते हैं, जिससे गाड़ी चलाते समय स्टीयरिंग में कंपन होने लगता है और कार के एक तरफ चलने की शिकायत आने लगती है। ऐसे में हमें तुरंत कार का एलाइनमेंट करा लेना चाहिए। टायरों को घुमाना भी एक विकल्प हो सकता है। इसके अलावा कई बार कार में छोटे-छोटे पंक्चर हो जाते हैं, जिससे चलते समय कार असंतुलित हो जाती है।

नाइट्रोजन वायु

कई लोग इस बात को लेकर असमंजस में रहते हैं कि टायरों में सामान्य हवा भरवाई जाए या नाइट्रोजन। आपको बता दें कि दोनों के अपने-अपने फायदे हैं। नाइट्रोजन गर्मियों में टायरों को ठंडा रखने में मदद करती है। वहीं, सामान्य हवा हमें नाइट्रोजन की तुलना में अधिक स्वतंत्र और आसानी से उपलब्ध होती है।